मिट्टी की उपयोगिता 

भूमि एक महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन है | मानव इस पर निवास करता है | अपनी अवश्यकता की अधिकतर वस्तुओं को भी भूमि से ही प्राप्त करता है| पृथ्वी के कुल क्षेत्रफल का 29% भाग भूमि का है|
यह पहाडी ,पठारी ,मैदानी , दलदली , मरुस्थलीय , हिमाच्छादित , वनाच्छादित रुपों में पाइ जाती हैं |भूमि का उपयोग हम भिन्न - भिन्न कामों में करते हैं | 
  • भूमि पर कृषि कार्य होता है |

  • भूमि पर पेड पौघे उगते है |

  • भूमि पर मकान , गाँव , शहर , तालाब , नहर , कुँआ ,चापाकल ,सडकमार्ग , रेल मार्ग ,पाइपलाइन मार्ग ,कारखाना , खेलों के मैदान , आदि इसी पर बने होते हैं |


मानव अपनी अवश्यकता क हिसाब से भूमि का उपयोग करता हैं|
जब जैसी जरुरत परती है मानव भूमि का उपयोग वैसे ही करता हैं|

हर जगह भूमि का उपयोग अलग अलग प्रकार से होता है | एक प्रकार की भूमि होने के बाद भी अलग अलग प्रकार से भूमि का उपयोग होता हैं|

कहीं फल की खेती होती हैं कहीं कृषि कार्य के लिए उपयोग होता है भूमि का|


मिट्टी की उपयोगिता,भूमि संरक्षण के उद्देश्य ,भारत में भूमि उपयोग प्रारूप का वर्णन


भूमि संरक्षण के उद्देश्य 

तेजी से बढती जनसंख्या के पोषण एवं आवास संबंधी आवश्यकता को पूरा करने के कारण वन एवं कृषि क्षेत्र घटते जा रहे है|
भूमि की अवैज्ञानिक अनियोजित उपयोग के कारण मरुभूमि का प्रसार , भूमि कटाल एवं भूमि के बंजर होने की समस्या बढती जा रही है| 

  •  भूमि का उपयोग नियोजित तरिके से करें |

  • भूमि पर वन क्षेत्र को बढाया जाए |

  • जैविक कृषि पर बल दिया जाय |

  • मरुभूमि के सीमांत पर झाडियाँ लगाया जाए |

  • भूस्खलन रोकने के लिए पर्वतीय ढलानो पर वृक्षा रोपन हो एवं परतिरोधी दलाने बनाई जाए |

  • तटवर्ती क्षेत्रों में वृक्षारोपण को बढावा दिया जाय |


इन सब कारणो से हम भूमि का सुरक्षित कर सकते हैं|

भारत में भूमि उपयोग प्रारूप का वर्णन करें


भूमि उपयोग का अर्थ है कुल उपलब्ध भूमि का विविध कार्यो में होने वाले उपयोग के आँकड़ों से है|

भूमि से संबंधित आँकड़े हमेशा बदलते रहते हैं | मतलब यह है कि विभिन्न देशों के मध्य भूमि का प्रारुप एक जैसा नहीं मिलता हैं| कहीं वन क्षेत्र अधिक मिलता है तो कहीं शुध्द बोई गई भूमि का क्षेत्र ,  तो कहीं बंजर भूमि का क्षेत्र अधिक मिलता है |
हमारे देश में भूमि संबंधित प्रारुप या रिकार्ड भू-राजस्व विभाग रखता है |


  •   वन क्षेत्र की भूमि 

  • कृषि कार्य के अनुपलब्ध भूमि                                                                                       
 1.   बंजर एवं व्यर्थ भूमि ,

  2.सड़क , मकान , उघोगों में लगी भूमि 

  •  परती भूमि 

  •  अन्य कृषि अयोग्य भूमि 

  •    शुध्द बोई गई भूमि